जिले के बारे में

सहारनपुर जिले ने 1997 में उत्तरप्रदेश  के सहारनपुर डिवीजन के रूप में दर्जा प्राप्त किया है।सहारनपुर शहर ने 01-10-2009 को सहारनपुर नगर निगम के रूप में स्थिति प्राप्त कर ली है और उत्तर प्रदेश राज्य में 13 वीं नगरनिगम है।यह सहारनपुर जिला और सहारनपुर डिवीजन का प्रशासनिक मुख्यालय है। सहारनपुर अपने लकड़ी के नक्काशीदार कुटीर उद्योग के लिए प्रसिद्ध है और साथ ही साथ विदेशी मुद्रा कमाता है।अपनी भौतिक स्तिथि के संबंध में,जिला  उत्तर और उत्तर-पूर्व में शिवालिक पहाड़ियों से घिरा हुआ है जोकि इसे उत्तरांचल राज्य के देहरादून जिले  से अलग करता है। यमुना नदी पश्चिम की सीमा बनाती है जो इसे हरियाणा के करनाल और यमुनानगर जिलों से अलग करती है। पूर्व में हरिद्वार (वर्तमान में उत्तरांचल राज्य) का जिला है जो 1989 से पहले सहारनपुर जिले का हिस्सा था और दक्षिण में जिला मुज़फ्फरनगर स्थित है।ब्रिटिश शासन के समय में  जिला मुजफ्फरनगर, सहारनपुर जिले का एक हिस्सा था।
जिला आयताकार आकार में है और यह 29 डिग्री 34 मिनट 45 सेकेंड और 30 डिग्री 21 मिनट 30 सेकंड उत्तर लेटिट्यूड और 77 डिग्री 9 मिनट और 78 डिग्री 14 मिनट 45 सेकंड पूर्वी देशांतर के बीच स्थित है। इसका कुल क्षेत्रफल 3,689 वर्ग किलोमीटर है। 2001 और 2011 की जनगणना के अनुसार सहारनपुर जिले की जनसंख्या क्रमशः 2149291, 3467332 है।सहारनपुर मुख्य रूप से एक कृषि जिला है।

पत्रकारिता:-http://updes.up.nic.in/spatrika/tab12007.asp?formd=12+Saharanpur+&formy=1516

अर्थव्यवस्था:-http://updes.up.nic.in/spatrika/select_distt_yr.asp

जनगणना:-http://censusindia.gov.in/2011census/maps/atlas/Uttar%20pradesh1.html